आपका अपमान करने वाले लोगों को चाणक्य की इस नीति से दें जवाब

AajNoida 07/18/2019 लाइफस्टाइल

 Acharya chanakya: अपमानित होना किसे अच्छा लगता है लेकिन जीवन में कई बार ऐसी स्थिति उत्पन्न हो जाती है जब हमें दूसरों द्वारा अपमान सहना पड़ता है। कई बार खुद के द्वारा की गई गलतियों पर तो कभी बेवजह अपमानित होना पड़ता है। लेकिन खुद की गलतियों के लिए किये गये अपमान को तो व्यक्ति सह भी जाता है पर यदि कोई बिना किसी गलती के कारण आपको सबके सामने अपमानित करे तो सहना कुछ मुश्किल हो जाता है। ऐसे में बहुत से लोग तुरंत उस व्यक्ति की भाषा में उसे जवाब देने लगते हैं तो कुछ लोग चुप रहकर सब कुछ बर्दाश्त कर जाते हैं। और बहुत से लोग ऐसे होते हैं जिन्हें समझ नहीं आता कि इस परिस्थिति में क्या किया जाए। तो क्या है अपमान के जवाब का सही तरीका जानिए चाणक्य नीति…

 

– चाणक्य नीति के अनुसार जब कोई आपका अपमान करे तो उसे उसकी भाषा में जवाब न दें क्योंकि उसका काम है आपको उकसाना। इसलिए बेहतर होगा कि आप ऐसी जगह पर मौन रहें और उसकी तरफ देखकर हल्का सा मुस्कुराएं और उससे कुछ ना कहें। क्योंकि ऐसा करने से उसे और भी ज्यादा गुस्सा आएगा और वह खुद को ही अपमानित महसूस करने लगेगा।

 

– बहुत से लोग ऐसे होते हैं जिन्हें दूसरों को नीचा दिखाना काफी अच्छा लगता है। आचार्य चाणक्य अनुसार ये लोग जीवन में असफल होते हैं। क्योंकि एक समझदार इंसान कभी किसी का अपमान नहीं करेगा। बहुत से लोग होते हैं जिनके अनुसार सब कुछ सहन करना ही सबसे अच्छा तरीका होता है लेकिन चाणक्य कहते हैं कि अगर कोई व्यक्ति अपमान करे तो उसे एक बार सहन करना समझदारी होता है। दूसरी बार हुए अपमान को सहन करना उस व्यक्ति के महान होने का परिचय देता है लेकिन तीसरी बार अपमान को सहन करना उस इंसान की सबसे बड़ी मूर्खता होती है। इसलिए हमेशा अपमान सहना सही नहीं है।– चाणक्य के अनुसार बदबू सिर्फ सड़े हुए फूलों से आती है क्योंकि खिले हुए फूल तो हमेशा खुशबू फैलाते हैं। इसी तरह जो व्यक्ति दूसरों का अपमान करता है ऐसे व्यक्ति की सोच बहुत ही छोटी होती है। जिस कारण ये लोग जीवन में कभी सफल नहीं हो सकते हैं। जिन लोगों को दूसरों का अपमान करना अच्छा लगता है ऐसे लोगों से दूरी बनाए रखने में ही भलाई है।