पुलवामा के पीछे से ‘आतंकी हमला’ हटा कर देखें यहां की करिश्माई खूबसूरती

AajNoida 07/14/2019 लाइफस्टाइल

 जम्मू-कश्मीर के पुलवामा का नाम आपने अकसर मीडिया की सुर्खियों में सुना होगा। हाल ही में पुलवामा में एक बड़ा आतंकी हमला हुआ था जिसमें भारतीय सेना के 40 जवान शहीद हो गये थे। दुनिया भर में इस हमले की कड़ी निंदा हुई थी, तभी से कश्मीर घाटी के पुलवामा के नाम के पीछे ‘आतंकी हमला’ जोड़ दिया गया। लेकिन अगर पुलवामा नाम के पीछे से अगर आप ‘आतंकी हमला’ हटा देंगे तो पुलवामा वापस अपने अस्तित्व में आ जाएगा, क्योंकि पुलवामा घाटी के खूबसूरत जगहों में से एक है। पुलवामा में जहां एक ओर लोग शहरी जीवन जीते हैं तो दूसरे ओर प्रकृति की खूबसूरती का आनंद लेते हैं। ऊंचे पहाड़, हरे पेड़-पौधों से भरा जंगल, पहाड़ों तो चीरता झरने का पानी… हिमालय से निकली नदी में बहता शीतल जल, किसानों की लहराता फसलें, कश्मीरी खूबसूरत से भरा गांव… यहां बहुत कुछ है देखने के लिए। 

अवंतीश्वर मंदिर
पुलवामा में एक प्राचीन मंदिर है, जिसे लोग तीर्थ स्थल मानते हैं। इस मंदिर का नाम अवंतीश्वर मंदिर है। यह मंदिर हिंदू धर्म के पूजनीय भगवान विष्णु को और देवों के देव महादेव को समर्पित है। देश-दुनिया के लोग इस मंदिर में दर्शन के लिए आते हैं, क्योंकि अपनी बनावट के कारण ये पर्यटकों का लोकप्रिय केंद्र है। 
 
अहरबल झरना
पुलवामा में वैसे तो बहुत से झरने हैं। सभी झरनों की अपनी-अपनी खूबसूरती होती हैं, लेकिन पुलवामा का अहरबल झरना यहां का सबसे खूबसूरत झरना माना जाता है। इस झरने को बहता देख ये नजारा आपकी आंखों में बस जाएगा। जिसे आप शायद ही भुला पाए! देवदार पेड़ो से घिरी घाटी के संकरी घाट से निकला ये 25 मीटर का झरना आपकी पलकें झपकने नहीं देगा।
शिकारगढ़ 
 
 
 
 
एक समय था जब पुलवामा के शिकारगढ़ में अमीर लोग जानवरों का शिकार करने के लिए आया करते थे। वन्यजीवों के लिए ये जगह जानी जाती हैं। आज शिकारगढ़ लोगों के लिए पिकनिक की जगह बन गई है। यहां लोग घूमने-फिरने आते हैं।
 
पुलवामा का मौसम पूरे साथ सुहाना होता है। सर्दियों में धूप थोड़ा कम निकलती है। पुलवामा आप साल के किसी भी मौसम में आ सकते है। यहां के पास श्रीनगर हवाई अड्डा है।