राफेल पर नये खुलासे से साबित हुई मोदी की चोरी: राहुल

AajNoida 02/08/2019 देश

 नयी दिल्ली, 08 फरवरी (वार्ता) कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी ने राफेल को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तीखा हमला बोलते हुए आज कहा कि इस सौदे के संबंध में एक अखबार की खबर से साबित होता है कि प्रधानमंत्री ने वायु सेना के पैसे की खुली लूट की है और राफेल घोटाले में वह सीधे शामिल हैं।

 
श्री गाँधी ने शुक्रवार को कांग्रेस मुख्यालय में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में कहा कि एक अंग्रेजी दैनिक में छपी खबर के अनुसार, राफेल सौदे में प्रधानमंत्री कार्यालय की भूमिका का लेकर रक्षा मंत्रालय ने आपत्ति जतायी थी जिससे साफ है कि प्रधानमंत्री राफेल घोटाले में लिप्त हैं और उन्होंने ही देश के 30 हजार करोड़ रुपये सीधे अनिल अम्बानी को देने का काम किया है।
 
उन्होंने कहा कि राफेल घोटाले की परतें लगातार खुल रही हैं और रक्षा मंत्रालय के अधिकारियों के खुलासे से साफ़ हो गया है कि फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति होलांदे ने जो कुछ कहा था वह सही है। श्री मोदी ने देश की जनता के 30 हज़ार करोड़ रुपये श्री अम्बानी की जेब में डाले हैं। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि श्री मोदी और रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण इस मुद्दे पर बराबर गलत बयानी कर रही हैं।
 
कांग्रेस अध्यक्ष ने राफेल सौदे की संसद की संयुक्त समिति (जेपीसी) से जाँच कराने की माँग दोहराते हुए कहा कि यदि इस सौदे में गड़बड़ी नहीं हुयी है तो प्रधानमंत्री को जेपीसी से इसकी जाँच करने से हिचकिचाना नहीं चाहिए। यह मामला तत्काल जेपीसी को सौप दिया जाना चाहिए।
श्री गाँधी ने कहा कि नये खुलासे से अब स्पस्ट हो गया है कि श्री मोदी ने राफेल सौदे में निर्धारित प्रक्रियाओं का उल्लंघन कर एक उद्योगपति को फायदा पहुँचाने का काम किया है। खुद को देश का ‘चौकीदार’ बताने वाले प्रधानमंत्री दोहरे व्यक्तित्व के हैं और वह ‘चौकीदार’ के साथ ही ‘चोर’ भी हैं।
पूर्व केंद्रीय मंत्री पी. चिदंबरम तथा कॉग्रेस महासचिव प्रियंका गाँधी के पति रॉबर्ट वाड्रा से जाँच एजेंसियों की ओर से की जा रही पूछताछ पर उन्होंने कहा कि कांग्रेस और उसके नेताओं पर जो चाहे कार्रवाई करते रहो, लेकिन राफेल मामले में भी कार्रवाई की जानी चाहिए।
पूर्व रक्षा मंत्री तथा गोवा के मुख्यमंत्री के साथ पिछले दिनों हुई मुलाकात पर श्री गाँधी ने स्पष्ट किया कि उनकी बात राफेल पर नहीं बल्कि उनके स्वास्थ्य के बारे हुई थी।
राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर हुई चर्चा के जवाब में प्रधानमंत्री के राफेल के संबंध में दिए गए बयान पर उन्होंने कहा कि श्री मोदी इस सौदे को लेकर जितना बचने का प्रयास करते हैं वह उतने ही फँस जाते हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री को बताना चाहिये कि रक्षा मंत्रालय ने राफेल सौदे पर प्रधानमंत्री कार्यालय की भूमिका को लेकर आपत्ति क्यों दर्ज जतायी थी।