इशांत, हनुमा ने थामी आस्ट्रेलिया की रन गति

AajNoida 12/14/2018 खेल

 पर्थ, 14 दिसंबर (वार्ता) तेज़ गेंदबाज़ इशांत शर्मा और स्पिनर हनुमा विहारी की संतोषजनक गेंदबाज़ी से भारत ने पर्थ की घसियाली पिच पर शुक्रवार से शुरू हुये दूसरे क्रिकेट टेस्ट के पहले दिन मेजबान आस्ट्रेलिया की रन गति पर विराम लगाते हुये स्टम्प्स तक उसके 277 रन पर छह विकेट हासिल कर लिये। 

 
आस्ट्रेलिया ने मैच में टॉस जीतने के बाद पहले बल्लेबाजी का फैसला किया और पहले दिन का खेल समाप्त होने तक अपनी पहली पारी में 90 ओवर में छह विकेट के नुकसान पर 277 रन बना लिये। बल्लेबाज़ कप्तान टिम पेन(16) और पैट कमिंस (11) नाबाद क्रीज़ पर डटे हुये हैं।
 
आस्ट्रेलियाई पारी में ओपनर मार्कस हैरिस 70 रन, आरोन फिंच 50, शॉन मार्श 45 और ट्रेविस हैड 58 रन बनाकर आउट हुये। तेज़ गेंदबाज़ों के लिये मददगार मानी जा रही पर्थ की पिच पर अनुभवी तेज़ गेंदबाज़ इशांत ने 16 ओवर में 35 रन देकर दो विकेट लिये जबकि हनुमा को 14 अोवर में 53 रन देकर दो विकेट मिले और आस्ट्रेलिया की रन गति को थामने की कोशिश की। 
 
अन्य भारतीय गेंदबाज़ों में तेज़ गेंदबाज़ जसप्रीत बुमराह ने 22 ओवर में किफायती गेंदबाजी करते हुये 44 रन पर एक विकेट और उमेश यादव ने 18 ओवर में 68 रन पर एक विकेट निकाला। हालांकि एडिलेड में उपयोगी साबित हुये मोहम्मद शमी 63 रन देकर कोई विकेट नहीं ले सके। 
आस्ट्रेलियाई बल्लेबाज़ों मार्श और हेड ने मध्यक्रम में अच्छी बल्लेबाजी करते हुये पांचवें विकेट के लिये 84 रन की महत्वपूर्ण अर्धशतकीय साझेदारी करते हुये आखिरी ओवरों में टीम को मजबूत स्थिति में पहुंचाया। चौथे नंबर पर बल्लेबाजी के लिये मार्श ने 98 गेंदों की पारी में छह चौके लगाकर 45 रन और हेड ने 80 गेंदों की पारी में छह चौके लगाकर 58 रन बनाये। 
इस साझेदारी को हनुमा ने तोड़ते हुये विपक्षी टीम की रन गति को थामने में अहम भूमिका निभाई और भारत को उसका पांचवां विकेट दिला दिया। हनुमा ने अजिंक्या रहाणे के हाथों मार्श को कैच कराया जबकि हेड दिन के आखिरी बल्लेबाज़ के रूप में आउट हुये जिनका विकेट इशांत ने दिलाया। इशांत ने शमी के हाथों हेड को कैच कराया और 83वें ओवर की पहली गेंद पर आस्ट्रेलियाई बल्लेबाज़ को पवेलियन भेज दिया।
इससे पहले मैच में सुबह मार्कस हैरिस और आरोन फिंच के बीच ओपनिंग विकेट के लिये 112 रन की शतकीय साझेदारी की बदौलत आस्ट्रेलिया ने अच्छी शुरूअात करते हुये लंच तक बिना कोई विकेट गंवाये 66 रन बनाये। हालांकि चायकाल तक भारतीय गेंदबाज़ों ने 145 के स्कोर पर विपक्षी टीम के तीन विकेट निकाल उसे दबाव में लाने का प्रयास किया।
तेज़ गेंदबाज़ जसप्रीत बुमराह ने 36वें ओवर में फिंच को पगबाधा कर उनकी हैरिस के साथ साझेदारी पर ब्रेक लगा भारत को उसका पहला विकेट दिलाया। फिंच ने 105 गेंदों में छह चौके लगाकर 50 रन की अर्धशतकीय पारी खेली। इसके बाद उस्मान ख्वाजा भी सस्ते में अपना विकेट गंवा बैठे। ख्वाजा को उमेश यादव ने विकेटकीपर रिषभ पंत के हाथों कैच कराकर भारत को दूसरा विकेट दिलाया। ख्वाजा ने 38 गेंदों में पांच रन बनाये। 
ओपनर मार्कस हैरिस भी इसक बाद देर तक नहीं टिक सके और तीसरे बल्लेबाज़ के रूप में अपना विकेट दे बैठे। वह 141 गेंदों में 10 चौकों की मदद से 70 रन की उपयोगी पारी खेलकर हनुमा विहारी का शिकार बने। हनुमा ने अजिंक्या रहाणे के हाथों मार्कस को कैच कराकर चायकाल तक आस्ट्रेलिया का तीसरा विकेट निकाल दिया।
भारतीय टीम के स्टार और अनुभवी ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन के चोट के कारण मैच से बाहर रहने के कारण टीम में शामिल किये गये पार्ट टाइम ऑफ स्पिनर हनुमा ने मार्कस और मार्श के अहम विकेट निकाले। हालांकि वह अश्विन या रवींद्र जडेजा की तरह बहुत आक्रामक नहीं दिखे। 
चायकाल के बाद आस्ट्रेलिया की रन गति को तेज़ करते हुये मार्श ने पीटर हैंड्सकोंब के साथ पारी को आगे बढ़ाया। हालांकि इशांत की शार्ट गेंद पर हैंड्सकोंब का गेंद दूसरी स्लिप में खड़े कप्तान विराट कोहली ने एक हाथ से लपका और बेहतरीन फील्डिंग का नमूना पेश करते हुये भारत को चौथा विकेट दिला दिया। लेकिन मार्श ने फिर हेड के साथ पांचवें विकेट के लिये 112 रन की शतकीय साझेदारी से आस्ट्रेलिया का स्कोर पांच विकेट पर 232 की सुखद स्थिति में पहुंचा दिया।
मार्श अपना अर्धशतक पूरा करने से पांच रन दूर विहारी की गेंद पर रहाणे को कैच दे बैठे जबकि हेड को इशांत ने शमी के हाथों कैच कराकर आस्ट्रेलिया का छठा और दिन का आखिरी विकेट निकाला। हेड ने 80 गेंदों की पारी में छह चौकों की मदद से 58 रन बनाये जो उनका टेस्ट में तीसरा अर्धशतक है। 
आस्ट्रेलिया ने पहले एडिलेड टेस्ट की तुलना में पर्थ में बेहतर बल्लेबाजी की। फिलहाल कप्तान पेन और कमिंस 26 रन जोड़कर क्रीज़ पर हैं।